Homeराजनीतिसरकारी संरक्षण में हो रहा आदिवासी समाज का धर्मांतरण, आक्रोश स्वाभाविक- जितेन्द्र...

सरकारी संरक्षण में हो रहा आदिवासी समाज का धर्मांतरण, आक्रोश स्वाभाविक- जितेन्द्र वर्मा

दुर्ग। नारायणपुर जिले में धर्मांतरण के प्रतिक्रिया स्वरूप हुई घटना को सर्व आदिवासी समाज की भावनाओं का प्रकटीकरण करार देते हुए भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष जितेंद्र वर्मा ने इसके लिए प्रदेश के कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।

जिला भाजपा अध्यक्ष जितेंद्र वर्मा ने कहा कि कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के अस्तित्व में आने के बाद से धर्मांतरण करवाने वाले तत्वों का मनोबल बेहद बढ़ गया है, इसी कारण आदिवासियों का धर्मांतरण चरम सीमा पर पहुंच गया है, ऐसे में आदिवासी इलाकों में वर्ग संघर्ष और आक्रोश की स्थिति बनना स्वाभाविक है। भूपेश सरकार धर्मांतरण करने वालो को सरंक्षण दे रही है जिसके परिणामस्वरुप बडी संख्या में आदिवासी समाज के भोले भाले मासूम लोगों को गुमराह करके धर्मान्तरित किया जा रहा है। धर्मांतरण के माध्यम से छत्तीसगढ़ की आदिवासी संस्कृति को नष्ट करने का अंतरराष्ट्रीय षड्यंत्र चल रहा है। धर्मांतरण के माध्यम से राष्ट्रांतरण सरकारी संरक्षण में चल रहा है।

जितेंद्र वर्मा ने कहा कि धर्मांतरण के माध्यम से भूपेश सरकार में आदिवासियों को प्रताड़ित होना पड़ रहा है। आदिवासी समाज अपने अस्तित्व, अस्मिता व स्वाभिमान को लेकर सड़क की लड़ाई लड़ने मजबूर हो गया है, इसकी सारी जिम्मेदारी भूपेश सरकार पर है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments