उत्तर प्रदेश में किसके नेतृत्व में जय-जय श्रीराम के नारे लगेंगे : निर्णय एक-दो दिन में

नई दिल्ली/लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अचानक भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व ने 10 जून को नई दिल्ली तलब किया है, योगी आदित्यनाथ 10 और 11 जून 2 दिन के लिए नई दिल्ली प्रवास पर रहेंगे।

भाजपा के केंद्रीय कार्यालय सूत्रों से बातें निकल कर आ रही है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में पिछड़ा वर्ग और अन्य ऐसे ही वर्ग के मतदाता, जिन्होंने भाजपा को समर्थन दिया था। उनके बीच भी गंभीर नाराजगी पैदा हो गई है, चर्चा यह है कि पिछड़ा वर्ग के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की जो उपेक्षा योगी आदित्यनाथ ने की है और जिसे हटाने का षड्यंत्र किया जा रहा है, उसको लेकर भी भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व मंथन कर रहा है।

भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व इस बात पर गहन मंथन कर रहा है कि पश्चिम बंगाल में जिस तरीके से वोटों का ध्रुवीकरण हुआ और हिंदू बहुल जिलों में भी भाजपा को हार का सामना करना पड़ा, कहीं वही स्थिति उत्तर प्रदेश के 2022 के विधानसभा चुनाव में ना आ जाए। इसलिए तेजी से डैमेज कंट्रोल में पार्टी जुट गई है ऐसा प्रतीत होता है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नई दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्र सरकार में गृह मंत्री अमित शाह और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने के साथ ही, भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष से भी भेंट करेंगे, कहां कौन दमदार, कौन जय-जय श्रीराम के नारों के बीच चुनावी घमासान में ईश्वररुपी जनसाधारण के बीच हाथ जोड़ने उत्तर प्रदेश की गलियों में घूमेगा, इसका निर्णय एक-दो दिनों में देश को मालूम चल जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!