समाज महिला एवं पुरुष जाति मिलकर से बना हुआ है, दोनो के विकास से ही समाज के विकास संभव है

रेवेन्द दीक्षित..

छुरा…अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर चुप्पी अब और नहीं उठाओ आवाज महिलाओं के हक, सम्मान एवं समानता के लिए संदेश देते हुए महिला सम्मेलन संगवारी महिला मंच लोक आस्था सेवा संस्थान के संयुक्त तत्वधान में सांस्कृतिक भवन छुरा में आयोजित किया गया । इस कार्यक्रम में 15 पंचायत के 300 महिला, पुरुष एवं बच्चों ने भाग लिया। कार्यक्रम का प्रारंभ अतिथियों के स्वागत एवं चंदन वंदन के साथ में किया गया। संस्था के अध्यक्ष हेमनारायण मानिकपुरी जी के द्वारा कार्यक्रम के उद्देश्य के बारे में संक्षिप्त बात रखी, हमारे जीवन में कई संघर्ष आते हैं जिसे हमें मिलकर उस मुद्दे पर आवाज उठाने की जरूरत होती है। समाज महिला एवं पुरुष जाति मिलकर से बना हुआ है, दोनो के विकास से ही समाज के विकास संभव है।
जनपद पंचायत अध्यक्ष तोकेश्वरी मांझी ने विभाग द्वारा चलाए जा रहे जन चौपाल की जानकारी दिया प्रत्येक शुक्रवार को जन चौपाल कार्यक्रम का आयोजन होता है जिसमें उपस्थित होकर मनरेगा,पेंशन,राशन कार्ड एवं अन्य ग्रामीण विकास की योजनाओं का लाभ लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं और अपनी समस्या को रख सकते हैं। समस्या का संबंधित विभागों के माध्यम से निराकरण किया जाएगा।

संस्थान के सचिव सुश्री लता नेताम ने महिला दिवस के इतिहास के बारे में महिलाओं को अवगत कराया कि इसकी शुरुआत 1908 में अमेरिका से हुआ, और महिलाओ की संघर्ष की जीत में 8 मार्च को राष्ट्रीय महिला दिवस की घोषणा किया गया, लेकिन हम महिलाओं की संघर्ष जारी रहना चाहिए हमें अपनी हक सम्मान और समानता के लिए आगे बढ़ना होगा तभी समाज में बदलाव संभव है। सखी वन स्टॉप सेंटर से नेहा नायक के द्वारा महिला हिंसा के बारे में जानकारी देते हुए महिला से संबंधित कोई भी समस्या होने पर महिला हेल्पलाइन नंबर 181 जानकारी दिया।
इस कार्यक्रम में कासा रायपुर से नीलम जी ने कहा की हम प्रत्येक दिन महिला दिवस मना सकते और अपनी किस्मत लिख सकते है गर्व है कि मैं एक महिला हूं और समाज के विकास के लिए मेरा एक महत्वपूर्ण स्थान है,हम समाज को बढ़ाने के लिए बहुत काम करते हैं। आईसीपीएस से शरदचन्द्र निषाद ने बच्चो के अधिकार के बारे में विस्तार जानकारी दिया। शीला यादव ने किशोर न्याय बोर्ड के बारे में जानकारी दिया। संगवारी महिला मंच से देवकी, सेवती, खुमेश्वरी, हेमकुमारी, भूमिका, लता, दशमति दीदियों ने गठन से जुड़ने के बाद संघर्ष ते हुए सफलता पाए उसकी कहानी को मंच के माध्यम से रखी बहनों की हौसला बुलंद किया। चाइल्ड लाइन परियोजना समन्वयक महेंद्र दास मानिकपुरी ने हेल्पलाइन नंबर 1098 के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि बाल विवाह बाल श्रम करना एवं करवाना कानूनन अपराध है बच्चों संबंधित किसी प्रकार की समस्या होने पर 1098 मे फोन कर सहायता प्राप्त कर सकते हैं।
आज के माध्यम से प्राप्त समस्या को मुख्यमंत्री के नाम से ज्ञापन सौंपा गया। संस्था से पोषण, नन्द कुमार, देवनाथ, लक्ष्मीरानी, पोखन, किरण, अनिता का सहयोग रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!