सांसद विजय बघेल की पदयात्रा देख मुख्यमंत्री पहुंचे माँ दुर्गा की शरण में,स्थानीय कांग्रेस नेता खो चुके है मानसिक संतुलन-हर्षा लोकमनी चंद्राकर


पाटन। क्षेत्र के कांग्रेस नेताओं द्वारा दुर्ग सांसद विजय बघेल पर दिए बयान पर भाजपा नेत्री एवं जिला पंचायत हर्षा लोकमनी चंद्राकर ने पलटवार करते हुए प्रेस को जारी वक्तब्य में कहा है कि मुख्यमंत्री के क्षेत्र में सांसद विजय बघेल की सफलतम पदयात्रा में उमड़े भीड़ और अपार जन समर्थन देखकर क्षेत्र के कई कांग्रेस नेताओं का मानसिक संतुलन खराब हो गया है ऐसे कमजोर मानसिक स्थिति में वे खबरों की सुर्खियां बटोरने सांसद बघेल जैसे जमीनी नेता के खिलाफ अनर्गल बयानबाजी कर रहे है ! भाजपा नेत्री हर्षा ने यह भी कहा कि सांसद बघेल और भाजपा कार्यकर्ताओं की पदयात्रा की सफलता देख छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को भी लखनऊ में प्रियंका दरबार छोड़कर पाटन में माता दरबार आने को विवश कर दिया है ।
श्रीमती चंद्राकर ने सवाल उठाते हुए कहा कि गंगाजल का कसम खाकर शराबबंदी का झूठा वादा करके महिलाओं का वोट बटोरने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओ को यह बताना चाहिए कि तीन बरस बीतने को है उनके राज में शराबबंदी कब होगी,शिक्षित बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता कब देंगे ,कांग्रेस शासन में प्रदेश के साढ़े चार लाख से अधिक गरीबों को पीएम आवास योजना से वंचित क्यों किया गया ! उन्होंने कहा कि छग में बीते बरस में सौ से अधिक पीड़ित किसान ने जान दे दी उनके लिए छग सरकार के पास फूटी कौंड़ी नही लेकिन खुद को किसान हितैषी बताने का ढोंग करने वाले मुख्यमंत्री बघेल गांधी परिवार को खुश करने पंजाब के किसानों को 50 लाख बांट रहे है ! श्रीमती चंद्राकर ने कहा कि कोविड काल मे मोदी सरकार द्वारा पीएमजीकेवाय के तहत नवम्बर माह तक 5 किलो अतिरिक्त चावल आबंटित किया गया जिसे राज्य सरकार डकार रही है गरीबों का चावल डकारने वाले लोगों को जनता जवाब देने तैयार बैठी है ,छग के लाखों जरूरतमंदों के पक्की घर बनाने का सपना तोड़ने वालों को इनकी हाय से कोई नही बचा पायेगा ।

कवर्धा की घटना एक वर्ग की तुस्टीकरण के लिये बहुसंख्यक हिन्दू समाज को दबाने का प्रयास

श्रीमती चंद्राकर ने कहा कि मुख्यमंत्री का गृह जिला और उनका खुद का क्षेत्र अपराध गढ़ बनता जा रहा है ,अवैध शराब,सट्टा और जुआं सहित अवैध उत्खनन का कारोबार तेजी से फल फूल रहा है पर प्रशासनिक तंत्र का उपयोग इन्हें रोकने में नही बल्कि विरोधी विचारधारा के लोगों को प्रताड़ित करने में किया जा रहा है ,बहुसंख्यक हिन्दू समाज को दबाने कवर्धा जैसे शांतप्रिय जगह में भगवा का अपमान कर हिंदुओं को नीचा दिखाने का प्रयास किया जा रहा है एक वर्ग की तुस्टीकरण के लिये खुद के धर्मप्रतीक का अपमान सहने वाले ये लोग हिन्दू हित के अनदेखी करने में माहिर है इन्हें अब हिन्दू समाज पहचान रहा है !

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!