लॉकडाऊन में नंद घर परियोजना संचालित कर रही है ऑनलाइन गतिविधियां

पाटन। दुर्ग जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण 6 अप्रेल से पूरे जिले में लॉकडाऊन लगाया गया है। जिसके कारण सभी नन्द घर (आंगनबाड़ी) भी बंद है। पाटन क्षेत्र के 101 आंगनबाड़ी केन्द्रों को वेदांता कंपनी ने नंद घर में परिवर्तित कर दिया है , इन सभी नन्द घरो का संचालन हुमाना पीपल टू पीपल इंडिया NGO के द्वारा सफलतापूर्वक किया जा रहा है |
वेदांता समूह की नंद घर परियोजना ने पाटन विकासखंड के गांवों में व्हाट्सएप समूहों के माध्यम से होम-स्कूलिंग के लिए ई-लर्निंग मॉड्यूल की शुरुआत की है। ई-लर्निंग मॉड्यूल में छह साल से कम उम्र के बच्चों के लिए कहानियां, खेल, कविताएं, घर पर की जाने वाली गतिविधियां, नैतिक विज्ञान के पाठ सहित सीखने के लिए बहुत कुछ उपलब्ध हैं | इसके अलावा बच्चों की बौद्धिक क्षमता को बढ़ाने, पढ़ाई में निरंतरता बनाये रखने, पोषण आहार सम्बंधित बातों की जानकारी देने के लिये क्लस्टर समन्वयक के द्वारा वीडियो,पोस्टर, आडियो मेसेज के माध्यम से गतिविधिया संचालित की जा रही है। साथ ही बच्चो के माता-पिता से भी संवाद जारी है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बच्चों व गर्भवती महिलाओं के घर-घर जाकर पोषण आहार बांट रहे हैं। इसके अलावा सभी को घर से न निकलने और बार-बार हाथ धोने व घर की सफाई करने पर जोर देने को कहा जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!