पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने गैंदलाल द्वारा रोपित पेड़ों को काटने पर रोक लगाने लगाई गुहार

दुर्ग। पर्यावरण संरक्षण के कार्यों से जुड़े विभिन्न संगठनों के पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर गैंदलाल देशमुख द्वारा रोपे गए जिन पेड़ों को सड़क चौड़ीकरण के नाम पर काटे जा रहे हैं उन्हें काटने पर तत्काल रोक लगाने गुहार लगाई है विभिन्न पर्यावरण संगठन से जुड़े लोगों ने आज कलेक्ट्रेट पहुंचकर कलेक्टर की अनुपस्थिति में एडीएम प्रकाश सार्वे को ज्ञापन सौंपा ज्ञापन सौंपने वाले पर्यावरण कार्यकर्ताओं का कहना है कि स्वर्गीय श्री देशमुख ने अपना पूरा जीवन पौधरोपण कर उसके संरक्षण में बिताते हुए 5 एकड़ बंजर जमीन को जंगल बनाया साथ ही अपने ग्राम कोड़िया से लेकर दुर्ग तक सड़क के दोनों छोर पर 300 से अधिक बरगद पीपल के पौधे रोपित किए थे जो आज विशाल पेड़ का रूप ले चुका है इनमें से कई पेड़ों को उन्होंने विभिन्न यादों के रूप में रोपे थे जो आज उनकी स्मृतियों के रूप में मौजूद है मगर उनकी इन स्मृतियों को मिटाया जा रहा है वर्तमान में पर्यावरण संरक्षण से जुड़े लोगों के द्वारा जन्मदिन, पूर्वजों की स्मृति, शादी के सालगिरह एवं विभिन्न मांगलिक अवसरों पर पौधरोपण किए जा रहे हैं और उनका संरक्षण कर रहे हैं यदि यह स्मृतियां इसी तरह सड़क चौड़ीकरण आदि विभिन्न विकास के नाम पर मिटाई जाती रहेगी तो जो लोग इस तरह पौधरोपण कर पर्यावरण संरक्षण में योगदान दे रहे हैं ऐसे पर्यावरण प्रेमियों का मनोबल कमजोर होगा ऐसे में भविष्य में पर्यावरण संरक्षण के कार्यों में इस तरह जनभागीदारी दे रहे पर्यावरण कार्यकर्ताओं हताश होकर इन कार्यों से दूरी बनाने लगेंगे आज विकास के लिए जितनी जरूरत सड़क की है जन स्वास्थ्य के लिए उतना ही पेड़ों का होना भी जरूरी है इसलिए लाखों पौधे रोपित कर उसे पेड़ का आकार देने वाले एवं पूरे प्रदेश में पर्यावरण संरक्षण की दिशा में अलख जगाने वाले स्व श्री देशमुख की स्मृति के रूप में मौजूद उनके द्वारा रोपित दीर्घ जीवी बरगद, पीपल, पाकर ,नीम आदि के पेड़ को सड़क चौड़ीकरण के नाम पर काटने पर तत्काल रोग लगाई जाए जहां पहले से पेड़ लगे हुए हैं वहां पर सड़कों को घुमा कर बना के पेड़ों बचाई जाए पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने एडीएम श्री सार्वे को जामुन का पौधा भेंटकर ज्ञापन सौंपा।

गैंदलाल की स्मृति में उपवन, सड़क का नामकरण एवं मूर्ति स्थापना की भी मांग
इन पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने स्वर्गीय गैंदलाल देशमुख द्वारा तैयार किए गए जंगल को गैंदलाल देशमुख की स्मृति उपवन के रूप में विकसित कर इसके संरक्षण का जिम्मा उनके परिजनों को दिए जाने एवं श्री देशमुख द्वारा उनके ग्राम कोड़िया से लेकर महाराजा चौक तक जिस मार्ग में दोनों छोर पर पौधरोपण किया गया है उसका नामकरण गैंदलाल देशमुख मार्ग रखे जाने के साथ ही बोरसी हनोदा मोड़ चौराहा के पास उनकी मूर्ति स्थापना किए जाने की भी मांग की है जिन संगठनों के पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने यह मांग की है इनमें हितवा संगवारी डुंडेरा के संयोजक रोमशंकर यादव, देवेंद्र पटेल, लेख राम सोनवानी, पर्यावरण मित्र मंडल भिलाई के अध्यक्ष ललित वर्मा, सृजनशील युवा संगठन के अध्यक्ष रमाकांत देशमुख, प्रेम देशमुख, भूषण हरित क्रांति समिति के प्रेम नारायण, सपना फाउंडेशन एवं राजन सम्मान से नवीन संचेती,उत्कृठा महिला कल्याण समिति की शानू ,मयारू संगवारी संस्था के अध्यक्ष चूम्मन देशमुख ,ऑक्सीजन टीम दुर्ग राजेश देवांगन ,अनुपा सोनवानी आदि शामिल है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!