बजट में आम आदमी के सबसे काम की खबर, जानें क्या सस्ता और क्या महंगा

नई दल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज वित्तीय वर्ष 2021-2022 के लिए बजट पेश किया. कोरोना काल में पूरे देश को वित्त मंत्री से बड़े एलान की उम्मीद थी. वित्त मंत्री ने भी लोगों को निराश नहीं किया. कई सेक्टर में वित्त मंत्री ने खजाना खोल दिया. वित्त मंत्री ने कहा कि बजट ऐसे समय आ रहा है जब देश की जीडीपी दो बार माइनस में गई. उन्होंने कहा कि आर्थिक मंदी के बारे में सोचा भी नहीं था, कोरोना से वैश्विक अर्थव्यवस्था पर असर पड़ा.
वित्त मंत्री के बजट भाषण के दौरान दो खबरें ऐसी होती हैं जो सीधे आम आदमी के जीवन पर असर डालती हैं. पहली आयकर स्लैब को लेकर वित्त एलान और बजट से क्या सस्ता और क्या महंगा. यहां जानिए बजट में क्या सस्ता और क्या महंगा हुआ?
क्या क्या महंगा हुआ?
मोबाइल फोन और मोबाइल फोन के पार्ट, चार्जर
गाड़ियों के पार्ट्स
इलेक्ट्रानिक उपकरण
इम्पोर्टेड कपड़े
सोलर इन्वर्टर, सोलर से उपकरण
कॉटन
क्या क्या सस्ता हुआ?
स्टील से बने सामान
सोना
चांदी
तांबे का सामान
चमड़े से बने सामान

वित्त मंत्री सीतारमण ने टैबलेट से पढ़ा बजट भाषण
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लीक छोड़ते हुए इस बार आम बजट कागजी दस्तावेज के बजाय टैबलेट से पढ़ा. सीतारमण 2021-22 का बजट पेश करते हुए सत्ता पक्ष की दूसरी कतार में रहीं. इस बार का बजट कागज पर प्रिंट नहीं हुआ है. बजट दस्तावेज सभी सांसदों समेत आम जनता के लिये डिजिटल स्वरूप में उपलब्ध कराया जाने वाला है.
चुनावी राज्यों के लिए वित्त मंत्री ने खोला खजाना, बंगाल, तमिलनाडु, केरल और असम को मिले 2.27 लाख करोड़
वित्त मंत्री ने कई बड़े एलान किए लेकिन सभी की निगाहें चुनाव राज्यों को लेकर होने वनाले एलान की ओर लगी थीं. वित्त मंत्री चुनावी राज्यों को निराश नहीं किया और कई बड़े एलान किए. पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल और असम के लिए वित्त मंत्री ने जमकर पैसा दिया. चुनाव वाले राज्य बड़े राज्यों में रोड इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए कुल 2.27 लाख करोड़ का एलान किया. इस ऐलान में खास बात यह है कि बंगाल से ज्यादा ध्यान तमिलनाडु का रखा गया है.
वित्त मंत्री ने कहा, ”पश्चिम बंगाल में कोलकाता-सिलीगुड़ी के लिए नेशनल हाइवे प्रोजेक्ट होगा. बंगाल में राजमार्ग पर 25,000 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे. बंगाल में 675 किमी राजमार्ग का निर्माण किया जाएगा.”
इसके साथ ही वित्त मंत्री ने तमिलनाडु, केरल और असम के लिए भी बड़े एलान किए. उन्होंने कहा, ”3500 किमी नेशनल हाईवेज प्रोजेक्ट के तहत तमिलनाडु में 1.03 लाख करोड़ रुपए खर्च होंगे. इसका कंस्ट्रक्शन अगले साल शुरू होगा. 1100 किमी नेशनल हाईवे केरल में बनेंगे. इसके तहत मुंबई-कन्याकुमारी कॉरिडोर भी बनेगा. केरल में इस पर 65 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे. 34 हजार करोड़ रुपए असम में नेशनल हाईवेज पर खर्च होंगे.
कोरोना काल में हेल्थ सेक्टर को वित्त मंत्री की बड़ी सौगात
हेल्थ सेक्टर के लिए निर्मला सीतारमण ने बड़ी सौगात दी है. अपने बजट भाषण के दौरान वित्त मंत्री ने ऐलान किया कि हेल्थ सेक्टर का बजट 94 हजार करोड़ से बढ़ाकर 2 लाख 23 हजार 846 करोड़ रुपये कर दिया गया है. लोकसभा में सीतारमण ने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन के लिए इस बजट में 35,000 करोड़ रुपये रखे गए हैं. अगर आगे भी जरूरत पड़ती है तो मैं फंड मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध हूं.
कोरोना को लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि इस बीमारी का असर दुनियाभर में पड़ा है और भारत ने इस महामारी से निपटने के लिए बड़े कदम उठाए हैं. वित्त मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी ने हमारी चुनौतियां बढ़ा दी है. कोरोना के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था पर असर पड़ा है.
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने फिर दोहराया- किसानों की आय को बढ़ाकर दोगुना करेंगे
किसानों की आय को दोगुना करने को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में बड़ा ऐलान किया है. वित्त वर्ष 2021-22 का बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि उनकी सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने पर कायम है. बजट भाषण के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, ”पीएम ने 80 मिलियन परिवारों को कई महीनों तक मुफ्त गैस मुहैया कराया, 40 मिलियन से अधिक किसानों, महिलाओं, गरीबों के लिए सीधे नकद राशि मुहैया कराई.”
कोरोना काल की चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, ”यह बजट ऐसी परिस्थितियों में तैयार किया गया है जो पहले कभी नहीं था. 2020 में हमने कोविड-19 के साथ क्या-क्या सहन किया उसका कोई उदाहरण नहीं.”
800 मिलियन लोगों के लिए मुफ्त खाद्यान मिला
केंद्र सरकार की ओर से आम जनता को दिए गए मदद को गिनाते हुए वित्त मंत्री ने कहा, ”प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2.76 लाख करोड़ रूपये की पीएम गरीब कल्याण योजना घोषित की, इसके साथ ही 800 मिलियन लोगों के लिए मुफ्त खाद्यान उपलब्ध कराया.”
कोरोना संक्रमण समेत कई अन्य बीमारियों को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, ”बीमारियों पर रोकथाम सरकार का सबसे बड़ा लक्ष्य है. देश में 15 हेल्थ इमरजेंसी सेंटर्स का गठन किया जाएगा. सरकार ने कोरोना टीकाकरण  लिए सरकार ने 35 हजार करोड़ रुपए दिए हैं. ये बजट आपदा में अवसर की तरह है.”
भारत के पास दो कोविड वैक्सीन उपलब्ध
लोकसभा में बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने कहा, ”हमारी सरकार ने हर स्थिति पर नजर बनाए रखी और अपने रिस्पांस में हम अत्यन्त मुस्तैद भी रहे, PMGKY और आत्मनिर्भर पैकेज के अलावा कई अन्य घोषणाएं भी हमारी सरकार ने की.”
वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण के दौरान कहा कि हमने कोविड-19 के खिलाफ नागरिकों को चिकित्सा की दृष्टि से सुरक्षित करना शुरू किया, जिसकी बदौलत आज भारत के पास दो कोविड वैक्सीन उपलब्ध है.











Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!