एक से लोन लेकर दूसरे बैंक में चालू खाता चलाने वालों पर सख्ती शुरू…13 हजार खाताधारकों की सूची बैंकों को भेजी

एक से लोन लेकर दूसरे बैंक में चालू खाता चलाने वालों पर सख्ती शुरू हो गई है। आरबीआई ने पहले चरण मे 13 हजार खाताधारकों की सूची बैंकों को भेजी है। इस सूची के आधार पर बैंकों ने अपने 12 हजार से अधिक चालू खाताधारकों को पत्र भेजकर कहा है कि ऐसा अब नहीं चलेगा। जिस बैंक से सीसी (कैश क्रेडिट) या ओडी (ओवरड्राफ्ट) की सुविधा ली है, वहीं से चालू खाता चलाएं। बैंकों ने 15 दिन में जवाब नहीं देने पर खाता बंद करने की चेतावनी भी दी है। इस पत्र सें व्यापारियों में हड़कंप मचा है।
सेंट्रल बैंक के क्षेत्रीय प्रबन्धक एलबी झा कहते हैं कि बहुत से व्यापारी एक बैंक से लोन लेकर दूसरे में चालू खाता चला रहे थे। इससे सीसी या ओडी खाते में एक रुपया भी जमा नहीं होने से ये खाते एनपीए हो जा रहे थे। बढ़ते एनपीए पर रोक लगाने के लिए आरबीआई ने दिशा-निर्देश भेजे हैं। ताकि सीसी या ओडी की सुविधा लेने वाले खाताधारक लोन वाले बैंक से ही लेनदेन करने को विवश हों।
बैंक सूत्रों के मुताबिक रिजर्ब बैंक ने जनपद के सभी बैंकों को 13 हजार खाताधारकों की सूची भेजी है। सूची मिलने के बाद एसबीआई, यूनियन, सेंट्रल बैंक व पीएनबी ने अपने चालू खाताधारकों को नोटिस भेजकर 15 दिन में जवाब मांगा है। नोटिस के बाद व्यापारी, फर्म व विभिन्न संस्थान दूसरे बैंकों के चालू खाते बंद कर रहे है।
यूनियन बैंक के क्षेत्रीय प्रमुख भोला नाथ ने बताया कि रिजर्ब बैंक ने हमारी शाखाओं के करीब 2500 चालू खाताधारकों को चिह्नित किया है। इन सभी को नोटिस भेजकर खाता बंद करने व लोन देने वाले बैंक से ही लेनदेन का सुझाव दिया गया है। साथ ही आरबीआई ने यह भी कहा है कि ऐसे खाताधारकों का चालू खाता खोलने से पहले जांच-परख कर ली जाए। 31 मार्च तक इस तरह के खाताधारकों पर अकुंश लगाने पर पूरा जोर है।
इन्हें मिला नोटिस
एसबीआई मुख्य शाखा ने अपने चालू खाताधारक रालशन इण्डिया लिमिटेड व लक्की ट्रैवल्स को नोटिस भेजकर कहा है कि हमारी शाखा से अपना चालू खाता बंद कर उसी बैंक से लेन-देन भी करे जिससे सीसी या ओडी लोन की सुविधा आपने ली है। इस शाखा ने इनके साथ ही रुंगटा एजेंसी समेत 300 खाताधारकों को पत्र भेजकर खाता बंद करने का अनुरोध किया है। रुंगटा एजेंसी ने अपना एकाउंट बंद भी करा लिया है।

अब चालू खाता खोलने के लिए सिबिल स्कोर की जांच
आरबीआई ने अपनी गाइड लाइन में कहा है कि ऐसे व्यापारियों, फर्मो व संस्थाओं के चालू खाते न खोलें जो दूसरे बैंकों से लोन लिए हों। इसके लिए उनके सिबिल स्कोर की जांच कर लें। यदि सबकुछ ठीक मिले तो ही उनका चालू खाता खोलें। डिफाल्टरों का चालू खाता किसी भी सूरत में नहीं खोलें। बैंकों का कहना है कि आरबीआई के दिशा-निर्देशों का पूर्णतया पालन किया जा रहा है। आरबीआई ने कहा है कि 31 मार्च तक ऐसे खाताधारकों के चालू खाते बंद होने चाहिए जिन्होंने किसी दूसरे बैंक से लोन लिया है। नया चालू खाता खोलने के लिए भी गाइड लाइन जारी कर कहा है कि खाता खोलने से पहले सम्बन्धित के सिबिल स्कोर की जांच जरूर की जाए।

आरबीआई से आई सूची के मुताबिक विभिन्न शाखाओं के चालू खाताधारकों को नोटिस भेजे जा रहे हैं। नोटिस मिलने के बाद खाताधारक अपने एकाउंट बंद भी कर रहे हैं। आरबीआई के निर्देश पर एक बैंक से लोन, दूसरे बैंक से लेन-देन करने वाले खाताधारकों पर अंकुश लगेगा। इसके साथ ही ऐसे खाताधारकों का नया चालू खाता भी बिना जांच-पड़ताल के नहीं खुलेगा।
-पीसी बरोड़, डीजीएम, एसबीआई

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!