Homeशिक्षाशाला के विकास में एसएमसी की भूमिका महत्वपूर्ण " " श्रेष्ठ पालकत्व...

शाला के विकास में एसएमसी की भूमिका महत्वपूर्ण ” ” श्रेष्ठ पालकत्व के लिए एसएमसी का उन्मुखीकरण कार्यशाला संकुल केंद्र परसदा में सम्पन्न

कुम्हारी संकुल स्त्रोत केंद्र परसदा (कुम्हारी ) के अधीनस्थ शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला परसदा (कुम्हारी ) में ” श्रेष्ठ पालकत्व के लिए एसएमसी का उन्मुखीकरण कार्यशाला संकुल स्तर पर दिनांक 6 दिसम्बर एवम 7 दिसम्बर को आयोजित किया गया । संकुल स्त्रोत केंद्र परसदा (कुम्हारी )के संकुल शैक्षिक समन्वयक ललित कुमार बिजौरा ने बताया कि कार्यशाला का शुभारंभ मां शारदे के तैलचित्र में पूजा अर्चना एवम वंदना के साथ हुआ । पश्चात संकुल शैक्षिक समन्वयक ललित कुमार बिजौरा ने कहा कि शाला के विकास में शाला प्रबन्धन समिति (एसएमसी) की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण है । निःशुल्क एवम अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार विधेयक 2009 की धारा 21 के प्रावधान के अनुरूप विद्यालयों में समुदाय की सहभागिता व स्वामित्व बढ़ाने विद्यालय प्रबंधन समिति का गठन किया जाना अनिवार्य है । एसएमसी शिक्षकों एवम अभिभावकों का एक साझा मंच है , विद्यालय विकास में अभिभावकों की सक्रिय भागीदारी एवम विद्यालय का स्वामित्व समुदाय में निहित हो यह आवश्यक है । मास्टर ट्रेनर्स मोहित कुमार शर्मा एवम श्रीमती पूर्णिमा यादव ने श्रेष्ठ पालकत्व के लिए एसएमसी का उन्मुखीकरण कार्यशाला में एसएमसी प्रशिक्षण के उद्देश्य , एसएमसी गठन , प्रक्रिया , दायित्व , अधिकार , श्रेष्ठ पालकत्व की पहचान चित्र चार्ट के माध्यम से प्रशिक्षार्थयों को बताया इसके अलावा श्रेष्ठ पालक की पहचान करते हुए समीक्षात्मक चर्चा की , शाला प्रबन्धन एवम श्रेष्ठ पालकत्व को ध्यान में रखते हुए 12बिंदुओं पर — जिसके अंतर्गत शाला सुधार की योजना , समुदाय को जोड़ना , बच्चों के सर्वांगीण विकास में एसएमसी की भूमिका , स्वच्छ एवम प्रेरक विद्यालय के रूप में अपने विद्यालय को विकसित करने , एसडीपी , एसएमसी के दायित्व को शामिल रखते हुए शासन की विभिन्न योजनाओं से परिचित कराते हुए विद्यालय के विकास एवम एसएमसी की क्रियाशीलता पर चर्चा करते हुए समस्त पालकों में श्रेष्ठ पालकत्व के भाव जागृत करने हेतु चर्चा परिचर्चा की । एनएएस , असर , एलओसी आदि पर चर्चा करते हुए प्रत्येक समूह द्वारा समूह में कार्य करने के उपरांत प्रस्तुतिकरण भी कराया गया । प्रशिक्षण में संकुल प्रभारी एवम प्राचार्य श्रीमती स्नेहलता तिवारी का भी मार्गदर्शन मिला ।प्रशिक्षण कार्यशाला में प्रमुख रूप से सत्येंद्र कुमार यदु , नरेश कुमार यादव , कौशल प्रसाद चौबे , कुलेश्वर प्रसाद ठाकुर , जयंत कुमार वर्मा , श्रीमती मेरी सुषमा खलखो , पवन कुमार साहू , कौशल कुमार शुक्ला उपस्थित रहे ।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments