HomeUncategorizedपरमिट काटने के 6 माह बाद भी किसान को नही मिला खाद...

परमिट काटने के 6 माह बाद भी किसान को नही मिला खाद ,,,,,,,मजबूरी मे कर्ज लेकर खुले बाजार से खरीदा खाद तब जाके अपना फसल ले पाया किसान

हेमन्त तिवारी द्वारा तैयार रिपोर्ट,,,

छुरा / पूरे गरियाबंद जिले किसानों के साथ हेरा फेरी करने और धान खरीदी ,खाद वितरण , पी डी एस राशन वितरण या फिर किसानो के ऋण संबंधी वितरण गड़बड़ी करने वाला एक मात्र खड़मा सहकारी समिति का विवादों का चोली दामन का साथ और इन्ही कारणों से यहां के दो ववस्थापक को जेल की हवा खानी पड़ी है । बावजूद उसके आज तक यहा के कर्मचारी अधिकारी सबक नही ले पा रहे है ।ऐसा हि एक मामला एक बार फिर गरीब किसानो को लूटने और बेवकूफ़ बनाने का सामने आया है ।खाद्य सहकारी समिति खड़मा के अंतर्गत ग्राम पंचायत गाय डबरी के आश्रित ग्राम कुसुमपनी मे अनुसूचित जनजाति के युवक जगत राम कमार को खाद देने के नाम से खाद्य वितरण करने वाले समिति के सदस्यो ने 24 जून 2022 को परमिट दे दिया पर किसान को 6 माह बित जाने के बाद आज भी 12 बोरी राखड़ और एक बोरी पोटाश नही दिया इस बिच धान बो चुके किसान को अपने फसल बचाने जेब के पैसे से खाद खरीदी कर फसल को पकाया और अब जब किसान अपनी ख़रीब की धान काट कर मंडी मे बेच चुका है । ऐसे मे कमार भुंजिया अति पिछड़ी जन जाति के इन लोगो को शासन द्वारा इनका स्तर् उपर उठाने के लिए तरह तरक के प्रयास कर रहे । वह कैसे सफल होगा जब सरकार के नुमाइंदे हि इन्हे लूटने मे लगे हो और ये सहकारी समिति वाले इन्हे लूटने का कोई मौका नही छोड़ रहे है ।वही इस बारे मे जगत राम कमार ने बताया की 6 माह पूर्व जून मे मेरा परमिट रसीद कट चुका है ।और मुझे आज तक खाद नही मिला है जबकी समिति के मै 4 बार चक्कर भी लगाया जब भी गया तो व्हा के कर्मचारी ओमकार ,और टार्जन ने मुझे कहा की तुम्हारा खाद अभी नही आया है । बाद मे आना ये जब भी तुम्हारे नाम का खाद आएगा तब तुमको खबर कर देंगे । साथ हि बैंक के वर्मा साहब ने बोला राखड़ खाद तुम्हारे नाम मे चढ़ गया है बोले ऐसे करते करते मेरा खरीफ की फसल कट गया पर मेरा न खाद अभी तक नही मिला है ।नया वव्यवस्थापक साहब को पूछा तो सीईओ साहब बताएंगे बोल दिये । सूत्रों से पता चला है की इस सहकारी समिति के अंतर्गत ऐसे कई किसान है जिनको 6 माह बित् जाने के बाद भी उनके अधिकार का रासायनिक खाद नही मिला है जबकी बाकायदा उनके नाम से समिति पैसे का भुगतान हो चुका है और किसान के सर पर कर्ज का बोझ चढ़ गया है । ऐसे मे ये गरीब किसान इनका खुलकर विरोध भी नही कर पाते क्यो की ये अपनी हक और अधिकार की बात करेंगे तो इनको भविष्य मे इन समिति के अधिकारी और कर्मचारी का गुस्से का सामना करना पड़ेगा ।और भविष्य मे समिति वा शासन की किसी योजना का लाभ नही मिलेगा । यहां वजह है की पूरे छुरा ब्लॉक मे कमार भुंजिया पिछड़ी जन जाति के लोगो को किसी भी शासन की योजना का लाभ नही मिल पा रहा है ।हाला की इनको इनका हक और अधिकार दिलाने की बात करने वाले बड़े बड़े समाज सेवक घूम रहे है । जो केवल अखबारों की सुर्खिया बटोर रहे है ।और जान बुचकर ऐसे मामलो से दूर रहते है ।।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments