Homeराजनीतिअध्यक्ष पद के चुनाव मे गड़बड़ झाला वन विभाग के कर्मचारी अधिकारी...

अध्यक्ष पद के चुनाव मे गड़बड़ झाला वन विभाग के कर्मचारी अधिकारी सवालों के घेरे मे

हेमंत तिवारी की रिपोर्ट,,

पांडुका / हमेशा विवादो मे रहने वाला वन विभाग का यह मुरमुरा बिट एक बार फिर विगत 21 नवंबर हुय वन प्रबंधन समिति की चुनाव को लेकर फिर विवादों मे फसते नजर आ रहे है ।मामला वन परिषेत्र पांडुका के मुरमुरा बिट का है जो पिछले कुछ माह से पेड़ो की कटाई और वन जीवो की शिकार के कारण काफी सुर्खियों मे रहता है ।ऐसा हि विवाद का एक बार फिर समिति अध्यक्छ के पद चुनाव को लेकर है। अध्यक्ष पद की चुनाव को वन विभाग को नियमानुसार करवाना था पर यहां ऐसा कुछ नही किया गया है ।और नियम को दरकिनार कर अपने चाहते को लाभ पहुंचने की नियत से चुनाव सम्पन्न करा दिया । बता दे की इस चुनाव को लेकर एक रोज पहले शाम को मुनादी किया गया था ।पर ग्रामीणों के अनुसार वन विभाग के चुनाव करने वाले अधिकारी 12 बजे आकर चुनाव कराने की बात कही थी ।पर चुनाव के ये अधिकारी जानबूचकर 2 बजे गांव आय और सरकरी पंचायत भवन मे चुनाव सम्पन्न नही करवा कर गाव के शीतला भवन मे चुनाव सम्पन्न करवाया ।इस वन प्रबन्धन समिति के चुनाव मे वन विभाग के बिटगार्ड और डिपटी रेंजर को चुनाव कराने की जिम्मेदारी मिला था ।जिसमे ग्रामीणों को चुनावी नामांकन फार्म भरना था पर ऐसा नही किया गयाग्रामीणों को कहा गया की जिसको जिसको चुनाव लड़ना है अपना अपना नाम लिखा दो । इस तरह गाव के 4 लोगो ने चुनाव के लिए हामी भारी और नाम दे दिये पर इन उम्मीदवारों को ना तो चुनावी फार्म भरवाया गया ना चुनाव चिन्ह दिया गया ।एक सादे कागज पे चारो उम्मीदवारों का नाम लिखकर सही ,गलत का निशान लगाने बोले और शीतला भवन के कमरे मे यह पुरा चुनावी प्रक्रिया पुरा किया गया । विभाग के इन जिम्मेदारों ने प्रत्याशी को प्रचार प्रसार का जरा भी समय नही दिया पर जिस को चुनाव जिताना चाहते थे उन्होंने पुरी तैयारी कर ली थी ।ऐसे इस प्रकार का चुनाव शायद हि देखने को मिला होगा की वन विभाग के इस बिटगार्ड और डिपटी रेंजर को ऐसा क्या हड़बड़ी था की आनन फानन मे चुनाव कराना पड़ा की ग्रामीणों ने अपने मताधिकार का सही उपयोग भी नही कर पाय ।और इस प्रकार हुव चुनाव को लेकर ग्रामीणों और हारे हुय प्रत्याशियों मे भारी नाराजगी और आक्रोश है पर बिटगार्ड के दबंगई के आगे ग्रामीण खुलकर विरोध नही कर पा रहे क्यो की अगर इस चुनाव विरोध करे तो ये कर्मचारी झूटे आरोपों मे फसा सकता है और कुछ ग्रामीणों की मिलीभगत से किसी भी अप्रिय घटना को अंजाम दे सकता है ।ऐसे मे ग्रामीण इस चुनाव को रद्द कर निष्पक्छ चुनाव कराने को लेकर बाकायदा आवेदन लिख वन मंडला अधिकारी को शिकायत पत्र तैयार कर लिए था पर गाव का माहौल खराब मत हो करकेकुछ ग्राम प्रमुखो के कहने पर रेंज कार्यालयपांडुका से वापस आ गया । इस प्रकर क्या वन विभाग के इन कर्मचारी, अधिकारियों की मनमानी चलती रहेगी या फिर अब निष्पक्छ चुनाव फिर् से विभाग कराएगा और इन कर्मचारी और अधिकारियो के उपर कुछ कार्यवाही कर् पायेगा या फिर इसे भी ठंडे बस्ते मे डाल दिया जायेगा ।,,,,,,,,सरपंच दशोदा बाई ध्रुव ग्रा,पंचायत मुरमुरानियमानुसार चुनाव किया गया है पर किसी भी प्रत्याशी से फार्म नही भरवाया गया है पर चुनाव सही हुवा है ।मै जानती हु ये सब किसका खेल है ,,,,,,डिपटी रेंजर वीरेंद्र ध्रुव वन परिषेत्र कार्यालय पांडुका ।चुनाव प्रकिरियां नियमानुसार किया गया है बकी आपको को मिलने पर पुरी बात बताऊंगा

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments